कचरा नहीं उठाने से परेशान हैं दीघावासी

पटना: बिहार की राजधानी पटना को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए ज़ोर-शोर से कोशिश की जा रही है. इसी क्रम में पटना नगर निगम के सभी 55 वार्ड को स्वच्छ बनाने के लिए घर घर से कचरा उठाने की योजना शुरु की गई. राज्य के नगर विकास एवं आवास विभाग के मंत्री महेश्वर हजारी ने 6 अप्रैल को इसका उद्घाटन किया. लेकिन दीघा विधानसभा क्षेत्र में पड़ने वाले कुछ इलाकों में अभी तक कचरा उठाने का इंतेज़ाम नहीं किया जा सका है. क्षेत्र के वार्ड नंबर 22 ए स्थित बांस कोठी, न्यू कॉलोनी और रहमत कंपाउंड में रहने वाले नगर निगम के इस सौतेले रवैये से नाराज़ हैं. न्यू कालोनी के बब्लू भाई कहते हैं: कचरा उठाने का बंदोबस्त नहीं होने से इस नई आबादी में भी बहुत गंदगी रहती है. कॉलोनी में एक हज़ार से ज्यादा लोग रहते हैं. इसलिए घरों से कचरा निकलना स्वभाविक है. लेकिन उन कचरों को डालने के लिए न तो आस पास कहीं पर कूड़ादान है और न ही घरों से कचरा उठाया जाता है. नतीजे के तौर पर जिसको जहां मौक़ा मिलता है अपने घरों का कचरा डाल देता है. यही कारण है कि न्यू कॉलोनी में जहां भी खाली प्लाट है, वह कूड़े दान में तब्दील हो गया है. बब्लू भाई एक खाली प्लाट की तरफ इशारा करते हुए कहते हैं कि इस में पड़े कचरे के कारण कॉलोनी में बहुत गंदगी रहती है. मच्छर भी बहुत लगता है. नगर निगम को इस तरफ ध्यान देना चाहिए. यही बात रहमत कंपाउंड में रहने वाले वसीमुलहक़ कहते हैं. उन्होंने जागृत बिहार डॉट कॉम से बात करते हुए कहा: नगर निगम को फिलहाल यहां दो चार कूड़े दान का इंतेज़ाम करना चाहिए ताके लोग अपने अपने घरों का कूड़ा कचरा उस में डाल सकें. इससे गंदगी नहीं फैलेगी और फिर कचरा उठाने में भी आसानी होगी. तब लोगों को भी जागरुक बनाने की कोशिश की जाएगी. अभी तो कचरा फेंकने का कोई इंतेज़ाम ही नहीं है तो लोगों से क्या कहा जाए?

Share

Leave a comment

Your email address will not be published.


*