होली आई रे!!

मॉडल: रान्या

-ज्ञानेन्द्र रावत*

हर्ष और उल्लास का महा पर्व होली

हमारा देश प्राचीनकाल से ही उत्सव प्रिय है। हमारे यहां उत्सवों की बहुलता सभी धर्मों, जातियों, संप्रदायों में भिन्न-भिन्न रूपों में परिलक्षित होती है। जीवन में जिस प्रकार मनुष्य क्रीड़ा, हास्य-विनोद और व्यंग से अछूता नहीं रह सकता, ठीक उसी प्रकार उत्सव, पर्व, त्यौहार जीवन में एकरसता से मुक्ति पाने के लिए अति आवश्यक हैं जो व्यक्ति के लिए भार मुक्त होने में सहायक सिद्ध होते हैं। वैदिक काल में यज्ञों की प्रधानता, उपनयन, पुत्र जन्म, विवाह, राजसूय एवं अश्वमेघ यज्ञ आदि समारोहों और यात्रा-पर्वों ंमें घर-परिवार, मित्र-बांधव, समाज के अन्य वर्गों के शामिल होने, नृत्य आदि सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन इस तथ्य को प्रमाणित करते हैं कि धर्म के साथ-साथ अन्य निमित्तों के माध्यम से भी हमारे यहां पर उत्सव मनाये जाते थे। होली कहें या होलिकोत्सव जिसका ऋतु परिवर्तन से घनिष्ठ संबंध है, भी एक ऐसा ही विशिष्ठ पर्व है जो हमारी सांस्कृतिक विशिष्टता का परिचायक है। यथार्थ में यह पर्व बसंत और शस्य दोनों के उपलक्ष्य में मनाया जाने वाला पर्व है जो बसंतोत्सव के उल्लास की परिणिति है। इसमें प्राचीनकाल से ही एकता में अनेकता के दर्शन होते हैं।

हमारे यहां होली के इस पर्व का वर्णन कवियों ने वह चाहे रसखान हों, सूरदास हों, रहीम हों, पद्माकर हों, नंद दास हों, तुलसीदास हों, या गोविंददास या फिर कोई अन्य, महाभारत हो या रामायण, नैषध हो, गाथा सप्तशती हो या आर्या सप्तशती या संस्कृत साहित्य का सबसे प्राचीन नाटक मृच्छकटिक हो, श्रीहर्ष कृत प्रियदर्शिका हो या फिर राजशेखर की कर्पूर मंजरी हो, में हास-परिहास एवं व्यंग-विनोद, हंसोड़ों की परंपरा का बड़ा ही रस-स्निग्ध उदाहरण मिलता है। होली की चर्चा हो और उसमें ब्रज की होली की बात ना हो तो सारी चर्चा बेमानी सी लगती है। दरअसल ब्रज की होली सारे भेदभाव मिटाकर हर्ष और उल्लास के साथ सबमें समरस होने का संदेश देती है। जहां तक रसखान का सवाल है, उनके अनुसार- गिरधर गोपाल के गांव की होरी की छटा ही निराली है। उन्होंने कहा भी है कि ’मानुष हों तो वही रसखान बसौं ब्रज गोकुल गांव के ग्वारन।’ अर्थात मनुष्य होकर गोकुल गांव के ग्वालों के बीच बसना चाहिए। यह उनके गिरधर के गोकुल के प्रति असीम प्रेम का परिचायक है।

रसखान की मानें तो उनके गिरधर के गोकुल की होरी देखते ही बनती है। समूचे गोकुल में होरी की धूम है। अनुराग और सुहाग से भरी फाग खेली जा रही है। कुंकुम और केसर के रंगों से भरी पिचकारियां चारो ओर रंग ही रंग बिखेर रही हैं। जैसे ही माधव आते हैं, किसी नई-नवेली को गले से लगा लेते हैं। फिर उसके गालों पर गुलाल मलकर उसे बिदा करते हैं। ऐसा लगता है कि वहां ब्रज की किशोरियों का अंग-अंग श्याम रस में डूबा हो। वहां उन्हें मान-अपमान की सुध ही नहीं है। श्याम की बांकी चितवन ने उनके तन के ताप को हर लिया हो। गुलाल की धुंध में उनकी दुति दामिनी की तरह दमक रही है। ठीक उसी भांति जिस तरह सावन के महीने में आकाश में छाई लालिमा के बीच चारो दिशाएं दमकती हैं। सब श्याम रंग में रंगे उनके प्रेम रस में अपनी सुध-बुध खो आकंठ डूबे हैं। जो जहां है, वहीं ठिठक कर रह गया हो। सब के सब श्याम रंग में विलीन हो चुके हैं। चारो ओर गोविंद गोविंद की ही धूम है। रसखान ने उस समय का जो अप्रतिम वर्णन किया है, वह अद्धितीय है, अनुपम है, अनूठा है। उसकी छटा देखते ही बनती है। गोकुल की होरी का कविवर रसखान द्वारा किया चित्रण प्रेम रंग का सजीव कहें या जीवंत परिचायक है, यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगा। उनके अनुसार-’गोरज बिराजै भाल लहलही वनमाल, आगे गैयां पाछे ग्वान गावें मृदुतान री। जैसी ध्वनि मधुर-मधुर बांसुरी की, तैसी बंक चितवनि मंद-मंद मुसकान री। कदम विटप के निकट तटनी के तट, अटा चढ़ि देखि पीत पट फीरान री। रस बरसावेैं तन तपन बुझावै, नैन -प्राननि रिझावै वह आवै रसखान री।।’ रसखान तो कृष्ण की लकुटी और कामरिया पर तीनों लोकों का राज्य न्योछावर करने को तत्पर दिखते हैं। उनकी आंखों में ब्रज के वन, बाग, उपवन, वाटिका और तड़ाग ऐसे बसे हुए हैं कि उन पर वह समस्त सुखों, सिद्धियां और निधियों को समर्पित कना चाहते हैं।

महाकवि सूरदास अपनी रचना ’सूरसागर’ में पंद्रह दिन तक होली मनाने के लिए कहते हैं। उनके अनुसार-’’कछु दिन ब्रज औरौ रहौ, हरि होरी है। पंदह्र तिथि भरि बरनि हौ, हरि होरी है।’’ सूर ’सारावली’ में तो होली का चित्ताकर्षक वर्णन करते हुए वे कहते हैं कि गोपियां बन-ठनकर नंद के द्वार पर आ जाती हैं ’सब बन ठनि आयीं ब्रज की बाल।’ सुन्दर साड़ी एवं कंचुकी पहने, नयनों में काजल डाले, नख-शिख तक सोलहों श्रृंगार किए ब्रज की ललनाएं कुमुद कुमारी दीख रही हैं-‘सारी पहरि सुरग, कसि कंचुकि, काजरि दै दै नैन…।’ पुराणों के अनुसार फाल्गुनी पूर्णिमा के दिन ढुंढा राक्षसी को निकालने के लिए रंगोत्सव एवं हास्य-विनोद के पर्व मनाने का रिवाज था। उसमें हास-परिहास एवं गाली-गलौज की भी छूट थी। भविष्येत्तर पुराण में उल्लेख है कि- ’नाना रंग मयैर्व स्त्रश्चंदनागरू मिश्रिते, अबीरं च गुलालं च मुखे ताम्बूलं भक्षताम्। वं शोत्र्थ ,जलयत्रं व चर्मयंत्रं करैधृतम, गालिदानं तथा हास्य जजनानर्तन स्फुटम्।।’ इस पर्व को मनाने के लिए भांति-भांति के सुन्दर , रंगीन वस्त्र पहनें। अबीर-गुलाल और चंदन एक-दूसरे को लगावें। हाथों में बांस अथवा चमड़े की पिचकारियां लेकर एक-दूसरे के घर जायें और रंग डालें। गालियां दें, हास्य-विनोद में जुट जायें। पुरुषों के साथ स्त्रियां भी इस हंसी-मजाक में शामिल हों और नाच-रंग के साथ हंसें और हंसावें।

संभवतः सूरदास इसी भावना के साथ ओत-प्रोत होकर ’सारावली’ में कहते हैं-

‘गोपी-ग्वाल मिले इक सारी, बचन नहीं बिनु दीन्हें गारी।
आनि अचानक अंखियां मींचें, चंदन बन्दन उपर खींचे।
हाथिनि लिए कनक पिचकारी तकि तकि छिरकन मोहन प्यारी।।’

फिर तो गोपिकाओं में से कोई मुख चूमती है, कोई गाल छूती है, कोई काजल लगाती है, कोई मुरली बजाती है, कोई वस्त्र छीनती है और कोई अंखिया मिलाकर देखने को कहती है, कोई प्रेमभरी गाली देती है और कृष्ण सोने की पिचकारी में रंग भरकर गोपी प्यारी पर डाल रहे हैं। सूरदास कृष्ण पर गोपियों द्वारा किए गए लाठी प्रहार का वर्णन करते हुए कहते हैं कि- ’उन जेरी धरे ग्वार, बांसनि इन पटी मार।’ इसके बाद ’फगुआ’ मंगा दिये जाने पर वे कहते हैं- ’फगुआ लै लालन छिटकाये, हंसन गुलाल ग्वाल लंह आए।’ यह तो सूरदास की विचार दृष्टि में ब्रज की होली का चित्रण है, अब भक्त मीरा के अनुसार होली का वर्णन इस प्रकार है जो होली के आनंद की तुलना परम प्रभु परमात्मा से मिलने वाले आनंद की गीत के माध्यम से करती हैं-

‘रंग में होरी कैसे खेलूंरी, सांवरिया के संग।
एक तो आयी राधे प्यारी गोपियां लीनी संग।
ग्वाल-बाल संग लिए कृष्णजी, ’मीरा’ के आनंद।’

माधुरी के अनुसार- ‘इहि विधि हिलमिल खेलिए, फागु बड़ौ त्यौहार।’ अर्थात होली का त्यौहार बड़ा ही महत्वपूर्ण है, इसलिए हिलमिलकर खेलिए।

कवि चतुर्भुज दास के अनुसार-’मगन भए डोलन जित तित हो गिनत न राजा राए।’

अब तुलसीदास जी की दृष्टि में होली देखिए-

‘राजा दशरथ द्वारा मची है होरी।
किण रे हाथ कनक डफ बाजे, किण रे हाथ झांझाी जोड़ी।
रामजी रे हाथ कनफ उफ बाजे, भरत रे हाथ झांझारी जोड़ी।
किणरे हाथ कनक पिचकारी, किण रे हाथ अबीर झोली।
लक्षमन रे हाथ कनक पिचकारी, शत्रुघ्न े हाथ अबीर झोली।
तुलसीदास आस रघुबर की, चिरजीवो भैया री जोड़ी।।’

कविवर रहीम ’रहीम रत्नावली’ में कहते हंै कि फाल्गुन पूर्णिमा के दिन लोग घरों में होली रखते हैं। उनके अनुसार-‘होरी पूजन सजनी, जुर नर नारि।’

कवि पद्माकर भी घर के दरवाजे पर होरी रखने का वर्णन करते हैं-‘जोरि जो धरि है बेदरद के दुआरे होरी।’ मिथिला में प्रचलित परंपरा अनुसार वहां के लोग जलता हुआ सवत में जौ और गेंहूं की बालियां भूनकर खाते हैं। यह परंपरा आपसी प्रेम और सौहार्द की प्रतीक है। इस पर्व को बासंती, आसाड़ी के नाम से भी जाना जाता है। वात्सायन के कामसूत्र में तो इस पर्व का होलका के नाम से उल्लेख है। पूर्णिमा के अगले दिन प्रथमा को जिसे धुलेंडी भी कहा जाता है, को लोग टेसू के फूलों से बने रंग से पिचकारियों के माध्यम से एक दूसरे को रंग से सराबोर किए जाने का वर्णन मिलता है। श्री हर्ष की रत्नावली में तो इसका विशद वर्णन करते हुए कहा गया है कि इस दिन बालक-बालिकाएं पिचकारियों द्वारा इतना रंग छोड़ते थे कि आंगन, गली, बाजार रंगीन कीचड़ से भर जाते थे। उसमें कहा गया है कि-‘सद्यः सांद्र विमर्द कंदर्भ कृत क्रीड़े क्षण प्रांगणे।’

कहते हैं प्रेम की गाली तो प्रेम से भी मीठी होती है। किंतु प्रेम कीचड़ तो नहीं होना चाहिए जो दास कबीरा की ’जतन से ओढ़ी चादर’ को मैल में न लपेटे और प्रेम, हर्ष, उल्लास के इस पर्व को घृणा, वैमनस्य, ईष्र्या और भेदभाव के संकीर्ण व अमानवीय व्यवहारों का शिकार न बनाये। यथार्थ में होली का यह पर्व विश्व-बंधुत्व की भावना में उत्तरोत्तर प्रगति लाने का पर्व है। चुंकि हास्य-विनोद, परिहास जीवन का अति सहज मनोभाव है, इसलिए हास्य, परिहास, हर्ष, उल्लास और आनंद का दूसरा नाम ’होली’ ह,ै यह हमें सदैव स्मरण रखते हुए इस महा पर्व की महत्ता को बनाये रखने का हरसंभव प्रयास करना चाहिए।

प्रकृति के रंगों से खेलें होली

होली का पर्व ऋतु परिवर्तन से जुड़ा संपूर्ण भारत का मंगल उत्सव है। शिशिर और हेमंत के बाद बसंत के आगमन की सूचना देता फाल्गुन मास वातावरण में हर्षोल्लास का रंग घोलने और जीवन की नीरसता दूर कर उसमें मधुरता के संचरण का काल है। वैदिक काल में भी ऐसे अवसरों पर लोग हास्य-परिहास, व्यंग-विनोद की भावना से आतप्रोत हो तन्मय होकर पूरा रस लेते थे। भविष्येत्तर पुराण में उल्लेख है कि होली को रंग उत्सव के रूप में मनावें और अबीर, गुलाल और चंदन को एक-दूसरे को लगावें। हाथों में पिचकारियां लेकर एक-दूसरे के घर जायें, रंग डालें और हास्य-विनोद में जुट जायें। लगभग आधी सदी पहले तक हमारे यहां होली टेसू, केसर, मजीठ आदि कुदरत के रंगों से खेली जाती थी। लेकिन आज बाजारीकरण के दौर में कुदरत के रंग न जाने कहां खो गए हैं और हम अपनी संस्कृति और सभ्यता को लगभग भुला ही बैठे हैं। अब तो होली पर पेंट, वार्निश व काले रंग जो राग-द्वेष बढ़ाते हैं, का प्रयोग बहुलता से होता है। हमारे यहां टेसू के वृक्ष का जिक्र ग्रंथों में मिलता है। इसको पलाश, त्रिशंकु और ढाक भी कहते हैं। इसके फूलों के रंग का प्रयोग होली पर प्राचीन काल से होता आया है। केसर का रंग केसर के पौधे से प्राप्त होता है। लेकिन यह महंगा है। कहा जाता है कि एक पौंड केसर में ढाई से पांच लाख सूखे वर्तिकाग्र पाए जाते हैं जिनको इकट्ठा करने के लिए कम से कम 71 हजार के लगभग फूलों कों तोड़ना पड़ता है। रत्नाकर ने अपनी कविताओं में टेसू के साथ मजीठ के रंग का वर्णन किया है। मजीठ के पौधे की जड़ से सिंदूरी रंग प्राप्त होता है। कुमायूं में इसे मजेठी व कश्मीर में टिंजाड़ू कहते हैं। इसका इस्तेमाल होली के दिन किया जाता है। इसी तरह एक पेड नील का है जिसके रंग का इस्तेमाल पहले होली पर किया जाता था। इनके अलावा डेढ़ सौ से भी ज्यादा ऐसे पेड़-पौधे हैं, जिनकी प्राकृतिक रंगों का उपहार देने में महत्वपूर्ण भूमिका है। गेंदा, गुलाब आदि ऐसे फूल हैं जिनके बने रंग स्वास्थ्य के लिए कदापि अहितकर नहीं हैं। बस इन्हैं 24 घंटे पानी में भिगोने और उसके बाद उसे मसलकर कपड़े से छान लेने की जरूरत है। यही नहीं चुकंदर को पानी में डालकर गहरा भूरा रंग भी बनाया जा सकता है।

प्राकृतिक रंगों से होली खेलना अनेकों बीमारियों से बचाता है। ये न तो शरीर के लिए हानिकारक है,ं न रंग में भंग के कारण बनते हैं। अक्सर बाजार में मिलने वाले गुलाल में अभ्रक और रेत आदि मिला होता है। रंगों को गहरा व चटख बनाने की खातिर मिलाए गए रसायन त्वचा पर दुष्प्रभाव डालते हैं। इनके आंख पर पड़ने से आंखों की रोशनी तक चली जाती है। देखने में सुन्दर, आकर्षक लगने और आंखों को सुकून देने वाले इन रंगों में माइका, अम्ल, क्षार, कांच के टुकड़े तक पाये जाते हैं। ये त्वचा, नेत्र रोग, कैंसर व सांस जैसे रोगों के कारण बनते हैं। गुलाल को रंगीन बनाने में ज्यादातर भारी घातुओं का इस्तेमाल होता है, जो जाने-माने सिस्टेमिक टाॅक्सिन हैं। ये न केवल गुर्दे, जिगर और हड्डियों में जमा हो जाते हैं बल्कि शरीर के मेटाबाॅलिक कामकाज को भी प्रभावित करते हैं। यदि ये आंख में चले जायें तो ओकुलर सर्फेस को क्षतिग्रस्त कर सकता है। इससे दृष्टिहीनता का खतरा रहता है। इसलिए होली पर प्राकृतिक रंगों का उपयोग हितकर है। होली के रंग में तन-मन दोनों रंग जायें, तभी होली के पर्व का आनंद आप नई उमंग और उल्लास के साथ उठा पायेंगे।

होली खेलने के लिए परंपरागत तरीका उचित है

प्राकृतिक रंगों से होली खेलना सबसे ज्यादा सुरक्षित होता है। इन रंगों से होली खेलने से अनेकों बीमारियों से बचा जा सकता है। क्योंकि ये रंग न तो शरीर के लिए हानिकारक होते हैं और न ही इनके उपयोग के बाद रगड़-रगड़ कर रंगों को छुड़ाने की कसरत ही करनी पड़ती है। इससे खाल खिंच जाती है और रंग में भंग के कारण बनते हैं ये विषैले रसायनयुक्त रंग सो अलग। दरअसल अक्सर बाजार में जो गुलाल मिलता है उसमें अभ्रक और रेत आदि मिला होता है। रंगों को और गहरा व चटख बनाने की खातिर उनमें मिलाए गए रसायन त्वचा पर दुष्प्रभाव डाले बिना नहीं रहते। कभी-कभी तो इनके आंख पर पड़ जाने से आंखों की रोशनी तक चली जाती है। अब तो प्राकृतिक जड़ी-बटियों की जगह सिंथेटिक डाइयों ने ले ली है। देखने में सुन्दर व आकर्षक लगने और आंखों को सुकून देने वाले ये रंग विषैले भी हो सकते हैं। कारण इनमें माइका, अम्ल, क्षार, कांच के टुकड़े तक पाये जाते हैं जो न केवल त्वचा व नेत्र रोग के कारण बनते हैं बल्कि कैंसर व सांस जैसे रोगों के खतरे को भी बढ़ाते हैं। इस बारे में प्रख्यात चिकित्सकों व विशेषज्ञों की राय है कि गुलाल को रंगीन बनाने में जिन चीजों का इस्तेमाल होता है, उनमें ज्यादातर भारी धातुएं होती हैं जो जाने-माने सिस्टेमिक टाॅक्सिन हैं। ये न केवल गुर्दे, जिगर और हड्डियों में जमा हो जाते हैं बल्कि शरीर के मेटाबाॅलिक कामकाज को भी प्रभावित करते हैं। यदि ये रंग आंख में चले जायें तो वह ओकुलर सर्फेस को क्षतिग्रस्त कर सकता है। इससे अस्थायी स्तर पर दृष्टिहीनता का खतरा बना रहता है।

इसमें दो राय नहीं कि प्रकृति ने वनस्पतियों के माध्यम से दुनिया को रंगों से परिपूर्ण किया है। लेकिन यह विडम्बना नही ंतो और क्या है कि समूची दुनिया में लगभग बारह लाख टन से भी ज्यादा उपयोग में लाये जाने वाले रंगों में प्राकृतिक रंगों का प्रतिशत मात्र एक हजार टन यानी एक फीसदी ही है। यह प्रकृति और मानव जीवन क साथ खिलवाड़ नही ंतो और क्या है। होली के लिए जहां प्राकृतिक रंगों का उपयोग मानव जीवन के लिए हितकर है, वहीं प्रकृति के सम्मान का प्रतीक भी है। सच तो यह है कि होली प्राकृतिक रंगों से ही खेलनी चाहिए । शरीर को नुकसान भी न हो और होली के रंग में तन-मन दोनों रंग जायें, इसके लिए जरूरी है कि होली खेलने के लिए परंपरागत तरीका ही अपनाया जायें। इस मानसिकता से जहां आपके अपनों पर प्रेम का रंग गहरा चढ़ेगा, वहीं होली के पर्व का आनंद आप नई उमंग और उल्लास के साथ उठा सकेंगे। इसमें दो राय नहीं।

*वरिष्ठ लेखक, पत्रकार एवं पर्यावरणविद 

Share

Leave a comment

Your email address will not be published.


*