सरकार की अनदेखी से बेहाल हैं ब्रहमपुर के किसान

ब्रहमपुर विधानसभा सीट पटना प्रमंडल के बक्सर जिला में पड़ता है. यह एक कृषि प्रधान क्षेत्र है. यहां रबी एवं खरीफ दोनों तरह की फसलों का उत्पादन होता है. इसके बावजूद राज्य की किसी भी सरकार ने इस क्षेत्र की तरफ आज तक कोई ध्यान नहीं दिया.

इस क्षेत्र के किसानों का कहना है कि वे अपने बूते पर और राज्य सरकार के बिना किसी सहयोग के कृषि कार्य करते हैं. इस साल वर्षा कम होने के कारण क्षेत्र को सूखा ग्रस्त घोषित किया गया था परन्तु किसानों को अब तक राहत राशि नहीं मिल पाई है. किसानों की एक बड़ी शिकायत यह भी है कि ब्रहमपुर प्रखण्ड के कृषि विभाग के कर्मचारियों ने उनकी जमीन की तुलना में कम जमीन का आंकलन करके सूखा राहत के लिए मसौदा भेजा है.

ब्रहमपुर प्रखण्ड के भदवर ग्राम निवासी ओम प्रकाश तिवारी ने बताया: “इस क्षेत्र में खरीफ फसलों में धान की खेती प्रमुखता से होती है. लेकिन वर्षा नहीं होने के कारण किसानों को बहुत नुकसान उठाना पड़ जाता है. उसके बावजूद सरकार हमारी मदद के लिए आगे नहीं आती.”

किसानों ने अपनी मेहनत खेतों में जान फूंकी है जिसके नतीजे में इस क्षेत्र में चारों तरफ धान की फसल लहलहा रही है, लेकिन किसानों की चिंता यह है कि नहर तक सूखी पड़ी है. पानी का साधन नहीं हुआ तो फसल को नुकसान हो सकता है. बरसात के बाद जब नदी – नाले, ताल – तलैय्या पानी से भरे होते हैं यहां की नहर सूखी है.

पास ही के बलुआ गाँव के निवासी ललन चौधरी का कहना था कि नहर में पानी आता ही नहीं है. उन्होंने कहा: “एक तो करेला, ऊपर से नीम चढ़ा. इस क्षेत्र में पहले तो वर्षा नहीं हुई ऊपर से पटवन करने के लिए बिहार सरकार की डीजल अनुदान योजना के तहत किसानों को दी जाने वाली राशि अब तक नहीं बांटी गई है.”

इस क्षेत्र के एक किसान प्रदीप तिवारी ने शिकायत करते हुए कहा कि बिजली आने के बावजूद किसानों को इसका कोई लाभ नहीं मिल पा रहा है. वे आज भी जेनसेट और पम्पसेट से पटवन करने पर मजबूर हैं क्योंकि बिजली कब आए कब जाए इसका किसी को पता ही नहीं रहता.”

Share

Leave a comment

Your email address will not be published.


*